Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari – नींद पर शायरी 2023

raat bhar neend nahi aati shayari

Raat bhar neend nahi aati shayari – vo lambe raatein jab duniya soti hai aur aapke khayal raaton ke taare khamoshiyon mein kuchh khaas ho jaate hain. Woh bechaini, sapno ki yaad, aur khwahishon ki feeling, sabse sundar tarike se shayari ke roop mein vyakti hoti hai. “Raat bhar neend nahi aati shayari,” jazbaaton ko shabdon mein vyakt karne ki kala hai, yeh neend ke bina raat ke bheed, pyaar mein bechaini, aur taaron ke neeche dhadakte dil ki lay hai.

Kabhi socha hai aapne, jab raat ko aapki aankhein band hoti hain, aur duniya kuch palon ke liye sannata mein doobi hoti hai, to aapke dimaag ke kone-kone mein kya chhupa hota hai? “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Jab sab kuch chup ho jata hai, to aapka mann khud hi apne khayalon ke safar par nikal jata hai. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Isi samay yeh shayari aapke khayalon aur jazbaaton ko vyakt karne ke liye ek upay ban jati hai.

Yeh vo lambe raatein hain, jab aap akela hai, aur duniya aapke neend ko na janne wali hai, aur taaron ke saath aapka dil dhadakta hai. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Ka saundarya yeh hai ki woh aapke aise palon ko wakai mai utaar kar dikhata hai, jab duniya aur bhi gehri ho jati hai. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Yeh woh samay hota hai jab aapko kuch bolna hota hai, jisse sirf shabdon se nahi kiya ja sakta.

Raat bhar neend nahi aati shayari” ke sher aise palon ki aatma ko pakad lete hain, jab aap akelepan se mukabla karte hain, aur taaron ke saath aapka dil dhadakta hai. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Shayari ke khoobsurati yeh hai ki woh aapke bheetar chhupi bhavnaon ka ek sahi madhyam banti hai.

Is blog post mein, hum aapko “raat bhar neend nahi aati shayari” ke poetic expressions ki jaadu bhari duniya mein le jayenge. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Hum un sheron ko explore karenge jo in lambe raaton mein hone wali ichhayein, pashchataap aur soch ko pakad lete hain. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Yeh shabdon ke duniya woh darwaza banate hain jo humare mann ke sabse gehre ichhayein bayan karne mein madadgar hoti hain, aur dimaag taaron ke neeche ghoomte hue lamhon ko pakad leta hai.

Toh chaliye, aaiye raat ko, bechaini ko, aur neend se pare soch ke khoobsurati ko “raat bhar neend nahi aati shayari” ke alfaazon mein gungunate hain. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” Chahe aapne khud un raaton ko mehsoos kiya ho ya fir in unmahlon ko samajhne ki ichha ho, aaiye, is layriki yatra mein hum aapko saath le jate hain. “Raat bhar neend nahi aati shayari.” vo ek alag duniya hai jahan shabdon ka jaadu chalta hai, bhasha aur sanskriti ki seemaon ko paar karke manushya anubhav ke mool par chhoo leti hai.

You Might Also Like to Read This Post
Kumar Vishwas Ki Shayari in Hindi 2023 Latest Collection
Top (283+) Papa Shayari in Hindi 2 Line – Papa Ji Shayari

Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari

Click to View Story on This Heading

Raat bhar neend nahi aati shayari – yeh vo verses hain jo neend ki kami ko mahsoos karne wali raaton ki jazbaat ko capture karte hain. Yeh shayari duniya ki khwahishon, bechaini, aur raat ke chupke se sochne ki aatma se mel khaati hai. Aaiye, hum saath milkar “Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari” ke is jaadu ko explore karein, jahan shabdon se so na paane ki samasya ka samadhan milta hai.

raat bhar neend nahi aati shayari

हमें भी नींद आ जाएगी हम भी सो ही जाएँगे
अभी कुछ बे-क़रारी है सितारो तुम तो सो जाओ

उठो ये मंज़र-ए-शब-ताब देखने के लिए
कि नींद शर्त नहीं ख़्वाब देखने के लिए

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है

आई होगी किसी को हिज्र में मौत
मुझ को तो नींद भी नहीं आती

इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई
हम न सोए रात थक कर सो गई

raat bhar neend nahi aati shayari images

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

थी वस्ल में भी फ़िक्र-ए-जुदाई तमाम शब
वो आए तो भी नींद न आई तमाम शब

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो

आज फिर नींद को आँखों से बिछड़ते देखा
आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई

raat bhar neend nahi aati shayari photos

वस्ल हो या फ़िराक़ हो ‘अकबर’
जागना रात भर मुसीबत है

सुकून दे न सकीं राहतें ज़माने की
जो नींद आई तिरे ग़म की छाँव में आई

मुद्दत से ख़्वाब में भी नहीं नींद का ख़याल
हैरत में हूँ ये किस का मुझे इंतिज़ार है

नींद तो दर्द के बिस्तर पे भी आ सकती है
उन की आग़ोश में सर हो ये ज़रूरी तो नहीं

नींद को लोग मौत कहते हैं
ख़्वाब का नाम ज़िंदगी भी है

नींद भी जागती रही पूरे हुए न ख़्वाब भी
सुब्ह हुई ज़मीन पर रात ढली मज़ार में

raat bhar neend nahi aati shayari status

हमारे ख़्वाब चोरी हो गए हैं
हमें रातों को नींद आती नहीं है

शाम से उन के तसव्वुर का नशा था इतना
नींद आई है तो आँखों ने बुरा माना है

ए नींद, तू कहा खो गई,
किस झोपडी में सो गई,
दौलत ने बिछाए बिस्तर
तू ज़मीं पर ही सो गई।

कुछ बाते है मलाल सी यह निकल क्यों नहीं जाती,
हां थक तो जाता हु मैं पर मुझे नींद क्यों नहीं आती।

एक नींद है जो आती नहीं,
और एक नसीब है जो जाने कब से सोया है।

Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari in Hindi

Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari in Hindi” – yeh vo shabdon ka sangrah hai jo sone ka sukh hamare bas mein nahi hai aur dimaag bechain, sochne mein vyast rahta hai. In verses mein chhupi hain hamare anshon, bechain mann ki bhavnaayein jo duniya ke sapno mein doobi hoti hai.

Click to View Story on This Heading

raat bhar neend nahi aati shayari in hindi

ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में 

कैसा जादू है समझ आता नहीं
नींद मेरी ख़्वाब सारे आप के

तारों का गो शुमार में आना मुहाल है
लेकिन किसी को नींद न आए तो क्या करे

चूँ शम-ए-सोज़ाँ चूँ ज़र्रा हैराँ ज़े मेहर-ए-आँ-मह बगश्तम आख़िर
न नींद नैनाँ न अंग चैनाँ न आप आवे न भेजे पतियाँ

मालूम थीं मुझे तिरी मजबूरियाँ मगर
तेरे बग़ैर नींद न आई तमाम रात

भरी रहे अभी आँखों में उस के नाम की नींद
वो ख़्वाब है तो यूँही देखने से गुज़रेगा

raat bhar neend nahi aati shayari in hindi images

अब आओ मिल के सो रहें तकरार हो चुकी
आँखों में नींद भी है बहुत रात कम भी है 

नींदों में फिर रहा हूँ उसे ढूँढता हुआ
शामिल जो एक ख़्वाब मिरे रत-जगे में था

तन्हाई से आती नहीं दिन रात मुझे नींद
या-रब मिरा हम-ख़्वाब ओ हम-आग़ोश कहाँ है

मौत बर-हक़ है एक दिन लेकिन
नींद रातों को ख़ूब आती है

चोर है दिल में कुछ न कुछ यारो
नींद फिर रात भर न आई आज

बहुत कुछ तुम से कहना था मगर मैं कह न पाया
लो मेरी डाइरी रख लो मुझे नींद आ रही है

raat bhar neend nahi aati shayari in hindi photos

कभी दिखा दे वो मंज़र जो मैं ने देखे नहीं
कभी तो नींद में ऐ ख़्वाब के फ़रिश्ते आ 

तुम्हारी आँख में कैफ़िय्यत-ए-ख़ुमार तो है
शराब का न सही नींद का असर ही सही

टूटती रहती है कच्चे धागे सी नींद
आँखों को ठंडक ख़्वाबों को गिरानी दे

नींद आती है अगर जलती हुई आँखों में
कोई दीवाने की ज़ंजीर हिला देता है

देने वाले तू मुझे नींद न दे ख़्वाब तो दे
मुझ को महताब से आगे भी कहीं जाना है

raat bhar neend nahi aati shayari in hindi pictures

नींद का काम गरचे आना है
मेरी आँखों में पर नहीं आती 

कल रात जगाती रही इक ख़्वाब की दूरी
और नींद बिछाती रही बिस्तर मिरे आगे

बड़ी तवील है ‘महशर’ किसी के हिज्र की बात
कोई ग़ज़ल ही सुनाओ कि नींद आ जाए

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari – yeh ek Article hai jo neend ke binna beeti raaton ke jazbaaton ko bakhubi pakadta hai. In shayari shabdon se, atma ki bechaini, premi ki tadap, aur raat ke chupke se vichar karna, yeh sab capture hota hai. Yeh shabdon ka jadoo, neend se pare vicharom ki canvas banata hai.

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari

नींद आँख में भरी है कहाँ रात भर रहे
किस के नसीब तुम ने जगाए किधर रहे 

मोमिन मैं अपने नालों के सदक़े कि कहते हैं
उस को भी आज नींद न आई तमाम शब

कल वस्ल में भी नींद न आई तमाम शब
एक एक बात पर थी लड़ाई तमाम शब

नींद टूटी है तो एहसास-ए-ज़ियाँ भी जागा
धूप दीवार से आँगन में उतर आई है

मैं अपनी अंगुश्त काटता था कि बीच में नींद आ न जाए
अगरचे सब ख़्वाब का सफ़र था मगर हक़ीक़त में आ बसा हूँ

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari images

जिन को नींदों की न हो चादर नसीब
उन से ख़्वाबों का हसीं बिस्तर न माँग 

कू-ए-जानाँ से जो उठता हूँ तो सो जाते हैं पाँव
दफ़अ’तन आँखों से पाँव में उतर आती है नींद

कहो तो किस तरह आवे वहाँ नींद
जहाँ ख़ुर्शीद-रू हो आ के हम-ख़्वाब

तेरे पहलू में ज़रा देर को सुस्ता लूँगा
तुझ तक आ पहुँचा अगर नींद में चलता हुआ मैं

ऐ शब-ए-ख़्वाब ये हंगाम-ए-तहय्युर क्या है
ख़ुद को गर नींद से बेदार किया है मैं ने

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari photos

इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई,
हम न सोए रात थक कर सो गई. 

नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यूँ नहीं,
इतनी ही फ़िक्र है तो फिर हमारे होते क्यूँ नही.

ख्वाहिश चाहत से बढ़ गई तू इबादत हो गई हैं,
मेरी नींदों को भी तेरे सपनों की आदत हो गई हैं.

सो जाने दे मुझे नींद की गहराईयों में,
जीने नहीं देती उसकी यादें तन्हाईयों में.

जागते रहने से ज्यादा मुझे नींद प्यारी हैं,
क्योकि हकीकत में न सही पर सपनों में तो वो हमारी हैं.

वो आँखों में अरमान जगा दिया करते हैं,
फिर चुपके से नींद चुरा लिया करते हैं.

Top 20 Raat Bhar Neend Nahi Aati Shayari status

तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क हैं,
एक बात को सबसे छुपाना इश्क हैं,
यूं तो नींद नहीं आती हमें रात भर
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना इश्क हैं. 

दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायेंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था.

गुम है मेरी आँखों से नींद आज भी,
याद करके रात कट जाती हैं आज भी.

नींद आये या ना आये,
चिराग बुझा दिया करो,
यूँ रात भर किसी का जलना
हमसे देखा नहीं जाता.

Neend Nahi Aati Shayari 

Click to View Story on This Heading

  Neend nahi aati shayari – yeh verses woh pal yaad dilaate hain jab aapke aankhon ko neend se dosti nahi hoti aur mann bechain, soch mein uljha hota hai. Yeh shayari hamare neend se vanchit lamhon ki bhaavnao ko vyakt karti hai, aur duniya ke khwabon mein khoye rahne wale vicharon ko shabdon mein utarta hai.

Neend Nahi Aati Shayari 

एक नींद है जो रात भर नहीं आती हैं,
एक नसीब हैं जो ना जाने कबसे सो रहा हैं. 

बस यही दो मसले जिन्दगी भर ना हल हुए,
ना नींद पूरी हुई, ना ख्वाब मुकम्मल हुए.

काश कोई एक रात ऐसी भी आ जाये,
नींद आ जाये पर तेरी याद न आये.

नींद से क्या शिकवा जो रात आती नहीं रातभर,
कसूर तो उस चेहरे का है, जो सोने नही देता.

जब ख्वाब उनकी मेरे आँखों में आते है,
उस वक्त बेहिसाब आँसू मेरे आँखों में आते है.

Neend Nahi Aati Shayari  images

ख्व़ाब आँखों से गये,
नींद रातों से गई,
वो गई तो ऐसा लगा
जिन्दगी हाथो से गई. 

नींद आती नहीं,
याद जाती नही,
ख्व़ाब मुक्कमल होते नही
क्योंकि तुम आती नही.

मैं दिन हूँ, मेरी सहम तुम हो,
मैं नींद हूँ, मेरा ख्वाब तुम हो,
मैं लब हो मेरी बात तुम हो,
मैं तब हूँ जब मेरे साथ तुम हो.

सुबह की नींद लगती है प्यारी,
सुबह उठते है वो जिनके कन्धो पर होती है ज़िम्मेदारी.

आई होगी किसी को हिज्र में मौत
मुझ को तो नींद भी नहीं आती

मैंने इश्क़ किया है या कोई कसूर कर दिया है,
इन आँखों ने खुद से नींद को दूर कर दिया है.

Neend Nahi Aati Shayari  pictures

जो सोता है वही खोता है,
मगर इश्क में इसका उलटा होता है. 

नींद से हम उठना नहीं चाहते है,
क्योंकि अक्सर वो ख़्वाबों में आते है.

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है

करवट में कत्ल नींद का इक बार कर के देख,
तू भी तो कभी मेरा इंतज़ार कर के देख.

वो हमें देखकर दूर भागते है,
और हम उनकी याद में रात भर जागते है.

neend raat bhar kyu nahi aati shayari

दिन में काम नहीं सोने देता है,
रात में महबूब का नाम नही सोने देता है. 

वो देखकर मुस्कुराते है और मेरे ख़्वाबों में भी आते है,
मगर उनके दिल में क्या है? यही नहीं बताते है.

जरूरतों को दरकिनार कर ख्वाहिशों के पीछे भागते है,
दिन का सुकून तो गंवाया था अब रातों में भी जागते है.

जो चैन से सोते है, उन्ही का चैन खोता है,
दिन भर मेहनत करने वाला ही चैन से सोता है.

रात को नींद नहीं आती शायरी 

 “रात को नींद नहीं आती शायरी” – yeh verses hain jo raat ko jab duniya soti hai, tab bhi aapke khayalon ka safar jaari rehta hai. Shayari ke duniya mein, yeh verses un bechain atma, premi ki tadap, aur raat ke chupke se sochne wale lamhon se mel khaate hain. Aaiye, “रात को नींद नहीं आती शायरी” ke jaadu ko explore karein, jahan shabdon se neend ki kami ko sukhad milta hai.

रात को नींद नहीं आती शायरी 

एक वक़्त था जब आँखे बंद करते ही नींद आ जाती थी,
और एक वक़्त आज का है आँखे बंद करते ही एक चेहरा सामने आ जाता है। 

अब तो नींद में भी रो देती है आँखे मेरी अक्सर,
जब तुम ख्वाब में भी साथ छोड़ जाते हो।

कसूर उनका नहीं कसूर तो मेरे दिल का है,
जितना इश्क़ मुझ से नहीं करता, उससे ज्यादा उनपे मरता है।

नींद ना पहले आती थी,
ना अब आती है, पहले बाते करने से,
और अब बाते ना करने से।

जल्दी से तुम्हे एक नज़र देख कर लौट जाऊं,
नींद में आते हो तो बड़ा प्यार आता है तुम पर।

रात को नींद नहीं आती शायरी  images

वो जब भी मुझ से नाराज़ सी हो जाती है,
मेरी नींद मुझ से खफा सी हो जाती है। 

उसे मुझसे मोहब्बत हो रही थी
नींद न खुलती तो बस हो ही गई थी।।

जब नींद नहीं आती तो पता चलता है,
दौलत और शोहरत से ज्यादा सुकून की कीमत होती है।

नींद आते हुए भी, नींद ना आ पाना,
रात लिखती है मानो हर रोज़,
मेरी मोहब्बत का फ़साना।

हसे तो हस लेते है,
दिल में दर्द हो तो रो लेते है,
नींद वैसे भी कहा आती है,
एक ग़ालिब,
पर सपनो में वो आयंगे यह सोच कर सो लेते है।

रात को नींद नहीं आती शायरी  pictures

सुनो कोई जबरदस्ती नहीं होगी हमारे इश्क़ में,
मैं तुम्हे नींद से जगा दिया करूँगा,
और तुम उठ कर मेरे लिए कॉफी बना देना। 

अपनी नींद चुरा कर तुम्हे चिट्ठी में भेज रहा हु,
सुना है आजकल तुम फिर रातों में जाग रहे हो,

फिर से वही रोग लग गया है हमें पुराना,
अँखियों में नींद का जरा सा भी नहीं आना।

यह जूनून ही है तुम्हारा,
जागो तो ख्याल तुम्हारा,
सो जाओ तो ख्वाब तुम्हारा।

सुना है आज कल नींदो में मुस्कुराता हु मैं,
आख़िर सपनो में आके क्या कर जाती हो तुम।

रात को नींद नहीं आती शायरी status

तेरे आने की उम्मीद में इधर उधर भागते है,
दिन का चैन तो गया ही था, अब तो रातों को भी जागते है। 

आँखों की नींद दोनों तरह से हराम है
उस बेवफ़ा को याद करें या भुलाएँ हम

शाख़ों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दे कि औक़ात में रह

ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है
नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है।
उस लड़की से बस अब इतना रिश्ता है
मिल जाए तो बात वगैरा करती है।

हो गया आपका आगमन नींद में
छू कर गुजरी मुझको जो पवन नींद में
मुझको फूलों की वर्षा में नहला गया
मुस्कुराता हुआ इक गगन नींद में
कैसे उद्धार होगा मेरे देश का
लोग करते है चिंतन मनन नींद में

Shayari on Neend 

Click to View Story on This Heading

Shayari on Neend – yeh verses raat ke neend se vanchit palon ki jazbaat ko khoobsurat tarike se capture karte hain, jab sapne aur neend hamare liye gair maujud hote hain. In shabdon se bechaini bhari atma ka vyakti hoti hai, aur sochne ka avsar milta hai, jo raat ke chupke se zindagi mein aakarshit hote hain.

Shayari on Neend 

मैं ने मुद्दत से कोई ख़्वाब नहीं देखा है
हाथ रख दे मेरी आँखों पे कि नींद आ जाए 

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मिरी नींद भी तुम्हारी है

नींद तो दर्द के बिस्तर पे भी आ सकती है
उनकी आगोश में सर् हो ये ज़रूरी तो नहीं

हमें भी नींद आ जाएगी हम भी सो ही जाएँगे
अभी कुछ बे-क़रारी है सितारो तुम तो सो जाओ

जागना और जगा के सो जाना
रात को दिन बना के सो जाना

Shayari on Neend in hindi

वो सुबह सुबह आए मेरा हाल पूछने
कल रात वाला ख्वाब तो सच्चा निकल गया 

नींद उस की है दिमाग़ उस का है रातें उस की हैं
तेरी ज़ुल्फ़ें जिस के बाज़ू पर परेशाँ हो गईं

रात भी नींद भी कहानी भी
हाए क्या चीज़ है जवानी भी

नींद आएगी भला कैसे उसे शाम के बा’द
रोटियाँ भी न मयस्सर हों जिसे काम के बा’द

ज़हर देता है कोई कोई दवा देता है
जो भी मिलता है मिरा दर्द बढ़ा देता है

top Shayari on Neend in hindi

जिन रातों में नींद उड़ जाती है क्या क़हर की रातें होती हैं
दरवाज़ों से टकरा जाते हैं दीवारों से बातें होती हैं 

हमको हमारी नींद भी वापस नहीं मिली
लोगों को उनके ख़्वाब जगा कर दिए गए

परेशां रात सारी है सितारो तुम तो सो जाओ
सुकूत-ए-मर्ग तारी है सितारो तुम तो सो जाओ

मिरे बारे में कुछ सोचो मुझे नींद आ रही है
मुझे ज़ाएअ’ न होने दो मुझे नींद आ रही है

आई जब उन की याद तो आती चली गई
हर नक़्श-ए-मा-सिवा को मिटाती चली गई

shayari on neend whatsapp status

कौन ये ले रहा है अंगड़ाई
आसमानों को नींद आती है 

आज फिर नींद को आँखों से बिछड़ते देखा
आज फिर याद कोई चोट पुरानी आई

तेरे ख़्वाबों ने मुझे चैन से सोने न दिया
दूर नींदों से कहीं रात गुजारी मैंने

सौ ख़ुलूस बातों में सब करम ख़यालों में
बस ज़रा वफ़ा कम है तेरे शहर वालों में

जिस्म चादर सा बिछ गया होगा
रूह सिलवट हटा रही होगी

Neend Ki Shayari 

Neend Ki Shayari – yeh shayari woh lambe raat ke bhavnao ko pyaari tarike se pakad leti hai, jab neend aur sapne hamari hath se bhag jate hain. In verses mein aapko milenge woh shabdon ki khoj, jo bechaini, premi ki tadap, aur raat ke chupke se vichar karte waqt apne aap mein vyakti hain.

Neend Ki Shayari 

दफ़्तर में तय किया था कि तारे गिनेंगे आज
लेकिन हमें पहुंचते ही घर नींद आ गई 

मेरी नींदें उड़ा रक्खी है तुम ने
ये कैसे ख़्वाब दिखलाती हो जानाँ

तुम्हारा ख़ाब भी आये तो नींद पूरी हो
मैं सो तो जाऊँगा नींद आने की दवा लेकर

हमने नींदों से भी गुरेज किया
तुम बड़ा ख्वाब थे हमारे लिए

तुमको अब नींद बहुत आती है
मुझसे अब पेट भर गया है क्या

Neend Ki Shayari in hindi

किन नींदों अब तू सोती है ऐ चश्म-ए-गिर्या-नाक
मिज़्गाँ तो खोल शहर को सैलाब ले गया 

थी वस्ल में भी फ़िक्र-ए-जुदाई तमाम शब
वो आए तो भी नींद न आई तमाम शब

हर एक शख़्स यहाँ महव-ए-ख़्वाब लगता है
किसी ने हम को जगाया नहीं बहुत दिन से

नींद से तुझको जगाने आया हूँ
आज सारे दुख सुनाने आया हूँ

रग-ए-जाँ में समा जाती हो जानाँ
तुम इतना याद क्यूँ आती हो जानाँ

Neend Ki Shayari 2023

झूठ कह दे ख़्वाब में तू आएगी
इस बहाने नींद तो आ जाएगी 

सुला कर तेज़ धारों को किनारो तुम न सो जाना
रवानी ज़िंदगानी है तो धारो तुम न सो जाना

इक कली की पलकों पर सर्द धूप ठहरी थी
इश्क़ का महीना था हुस्न की दुपहरी थी

ख़्वाब इतना भी हसीं मत देखो
नींद टूटे तो न ये शब गुज़रे

मेरे फसाने को सुन सुन के नींद उड़ती है
दुआएँ मुझको तेरे पासबान देते हैं

ध्यान खो कर भी रवाँ है फैशन
नींद में बाल खड़ा है यारों

neend kyun raat bhar nahi aati shayari

आधी नींद में रहता हूं मैं
कब आ जाए आहट तेरी 

जब कभी ख़्वाब की उम्मीद बँधा करती है
नींद आँखों में परेशान फिरा करती है

नींद आती नहीं मुझे शब भर
देख लेते मुझे वो गर पल भर

मज़ीद इक बार पर बार-ए-गिराँ रक्खा गया है
ज़मीं जो तेरे उपर आसमाँ रक्खा गया है

क्या क्या छीना है मुझसे उसने बतलाऊँ
नींद चैन मुस्कान ख़ुशी वो मैं यानी सब कुछ

Neend Shayari in Hindi 

Neend Shayari in Hindi – yeh shayari woh lambe raat ke bhavnao ko khoobsurat tarike se pakadti hai jab neend aur sapne hamare liye musibat ban jate hain. Yeh verses us bechain atma ka vyakti hain, aur sochne ke liye ek canvas banate hain, jahan raat ke chupke se aaye bhavnaon ko shabdon mein utar sakte hain.

Neend Shayari in Hindi 

नींद से आ कर बैठा है
ख़्वाब मिरे घर बैठा है 

नींद भी जागती रही पूरे हुए न ख़्वाब भी
सुब्ह हुई ज़मीन पर रात ढली मज़ार में

ग़ज़ब के ख़्वाब देखते होंगे
वो जो रातों में भी नहीं सोते

नींद से आज फिर मुहब्बत जीत जाएगी
लगता है, ये रात भी, ऐसे ही बीत जाएगी

तलब-ए-नींद तो आँखों को मेरी बहुत है मगर
मुझे सोने नहीं देते मेरे देखे हुए ख़्वाब

Neend Shayari in Hindi images

तुमसे पूछेंगे सुबह लोग मेरे बारे में
नींद में पगली मेरा नाम नहीं ले देना 

हमारी नींद में वो शख़्स इतना जग चुका है सो
न हमको नींद आती है न वो अब जाग पाती है

जब कभी नींद हमें वक्त पे आने लगे है
तो डर के तेरी याद को आवाज़ लगा देते हैं

सूना आँगन नींद में ऐसे चौंक उठा है
सोते में भी जैसे कोई सिसकी लेता है

क़दम शबाब में अक्सर बहकने लगता है
भरा हो जाम तू अज़-ख़ुद छलकने लगता है

best Neend Shayari in hindi

रात दिन का सब सुकूं बेचैनियों में आ गया है
दर्द सारा नींद की कुछ गोलियों में आ गया है 

हर एक नींद को परख रहा हूँ मैं
तुम्हारे​ एक ख़्वाब का जला हुआ

मुझे सवाल के अंदर छुपा जवाब मिला
ज़रा सी नींद खंगाली तो मुझको ख़्वाब मिला

वक़्त की ताक़ पे दोनों की सजाई हुई रात
किस पे ख़र्ची है बता मेरी कमाई हुई रात

रोज़ ख़्वाबों में मुझे दिखता तेरा घर
काश नींदों में कभी मैं चल भी पाता

नींद शायरी

गमों का काफिला घर से निकल आता है
दवाई लगाता हुँ तो जख्म छील जाता है 

रात का है ये सबब कैसे बताएँ हम तुम्हें
नींद आती है नहीं, बस लेट जाते हैं ज़रा

गुजारी है गमो की रात हमने रो के कमरे में
मेरी आंखों से नींदों को वो कुछ ऐसे चुरा निकला

नींद आई तो धूप खिले तक सोएंगे
ख़्वाबों की फ़ेहरिस्त बना कर बैठे हैं

मै रोया रात भर ज़िद में, मुझे मिलने की चाहत थी
मेरी आँखें लगी थी जब, मेरे से रू-ब-रू तुम थी

नींद पर शायरी 

नींद पर शायरी” – yeh shabdon ka blogpost hai jo bechain raaton ki aatma ko pakad lete hain, jab duniya soti hai aur aapke mann mein khayalon ka safar jaari rehta hai. Yeh verses us bechaini, premi ki tadap, aur raat ke chupke se vichar karne wale lamhon ko vyakt karte hain.

नींद पर शायरी 

ख़ैरात में अब दे दिया जाए इसे
हर रात नीदें ज़ाया होती रहती ह

समाअतों में बहुत दूर की सदा ले कर
भटक रहा हूँ मैं इक ख़्वाब का पता ले कर

सितम तो ज़िंदगी दोहरा रही है
ख़ताओ को सही ठहरा रही है

अना हवस की दुकानों में आ के बैठ गई
अजीब मैना है शिकरों में आ के बैठ गई

ये मुझे नींद में चलने की जो बीमारी है
मुझ को इक ख़्वाब-सरा अपनी तरफ़ खींचती है

नींद पर शायरी  images

रात सी नींद है महताब उतारा जाए
ऐ ख़ुदा मुझ में ज़र-ए-ख़्वाब उतारा जाए 

रात के आठ बज गया जानी
नींद आनी नहीं तुम्हारे बिन

नींद पलकों पे यूँ रखी सी है
आँख जैसे अभी लगी सी है

रोज़ ख़्वाबों में आ के चल दूँगा
तेरी नींदों में यूँ ख़लल दूँगा

आ भी जाओ न कभी नींद में ख़्वाबों की तरह
ज़िन्दगी रंग भी दो मेरी गुलाबों की तरह

मैं सोता हूँ तो ये आकर झिंझोड़ देता है
तेरा ख़याल मेरा ख़्वाब तोड़ देता है

नींद पर शायरी in hindi

हम आशिक़ों की नींद से है ख़ानदानी दुश्मनी
करवट से कर ली गुफ़्तगू जगकर गुज़ारा कर लिया 

खुलती है मेरी नींद हर इक रात दो बजे
इक रात दो बजे मुझे छोड़ा था आपने

अक्सर हमको नींद में ऐसा लगता है
कोई हमसे पूछ रहा है जिंदा हो

जब चाहें सो जाते थे हम, तुमसे बातें करके तब
उल्टी गिनती गिनने से भी नींद नहीं आती है अब

कहीं खो न जाना ज़रा दूर चल के
मुसाफ़िर तिरी ताक में हैं धुँदलके

neend kyun raat bhar nahi aati shayari

तू कहीं आस-पास था वो तिरा इल्तिबास था
मैं उसे देखता रहा फिर मुझे नींद आ गई 

दूर भी जाते हुए पास भी आते हुए हम
भूलते भूलते कुछ याद दिलाते हुए हम

वक्त पे यूँ न आना, ग़लत बात है
फिर बहाने से जाना, ग़लत बात है

मुझको तो कहते हो सो जाने को
नींद को भी समझाओ तुम आने को

Neend Sad Shayari 

Neend Sad Shayari – yeh shayari woh bechain raaton ke dukh ko vyakt karte hain, jab akelaapan aur gehre bhavnao ko shabdon mein samjha jata hai. Yeh shayari us bechaini ko bayan karti hai jo duniya soti hai to hamare andar jaagti hai.

Click to View Story on This Heading

Neend Sad Shayari 

थक कर सोने में ही सुकून है,
दौलत, शोहरत, इश्क़ में नहीं. 

ऐसा लगा कि जिन्दगी से मुलाक़ात हो गई,
पर हकीकत में बचपन की नींद अब ख्व़ाब हो गई.

मौत का एक दिन मुअय्यन है
नींद क्यूँ रात भर नहीं आती

ना नींद है आँखों में, ना ही कोई हसरत
कितना सादा सा रह गया हूँ मैं तेरे बगैर.

नींद आएगी जिस दिन तो इस तरह सोयेंगे,
मुझे जगाने के लिए लोग रोयेंगे.

Neend Sad Shayari in hindi

नींद में भी गिरते है मेरी आँखों से आँसू,
जब तुम ख़्वाबों में मेरा हाथ छोड़ देते हो. 

तुम्हें तो आती होगी नींद सुकून से,
तुमने तो अलविदा भी मुस्कुरा के कहा था.

मेरे ख़्वाबों का उसे कौन पता देता है,
नींद में आ के वो अक्सर ही जगा देता है.

काश!!! किस्मत भी नींद की तरह होती,
कि हर सुबह खुल जाती.

मेरी हिचकी गवाह है,
नींद उसकी भी तबाह है.

Neend Sad Shayari images

जागना कबूल है तेरी यादों में रात भर,
तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में अब कहाँ. 

आपकी नींद ख़्वाबों से भर जाएँ,
आपकी जिन्दगी खुशियों से संवर जाएँ,
चाँद की चांदनी चेहरे पर बिखर जाएँ,
और हुस्न आपका एकदम निखर जाएँ.

दोस्ती बुरी हो तो उसे होने मत दो,
अगर हो गयी तो उसे खोने मत दो,
और अगर दोस्त हो सबसे प्यारा
तो उसे चैन की नींद सोने मत दो.

यूँ खाली पलकें झुका देने से नींद नही आती,
सोते वही लोग है जिनके पास किसी की यादें नही होती

जिन आँखों में ख्वाब होते है,
उन्हें रातों में नींद नही आती है.

Neend Sad Shayari status

रात भी नींद भी कहानी भी,
हाय क्या चीज है जवानी भी. 

भरी रहे अभी आँखों में उसके नाम की नींद,
वो ख्व़ाब है तो यूँ ही देखने से गुजरेगा.

नींद आँखों को न आयें तो मैं क्या करूँ,
ख्याल तेरा दिल से न जायें तो मैं क्या करूँ.

इतना दर्द तो मरने से भी नही होगा,
जितना दर्द तेरे बिछड़ने से होगा.

वो बेवफ़ा चार दिन की मोहब्बत दे गया,
और मेरी उम्र भर की रातों की नींद ले गया.

Similar Posts

7 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *