New 30+ Narazgi Shayari in Hindi (2024) | नाराजगी शायरी

Narazgi Shayari in hindi

Narazgi Shayari in Hindi – दोस्तों, आज की पोस्ट बहुत ही खास और अलग होने वाली है, क्योंकि आज हम आपके लिए नाराजगी शायरी हिंदी में लेकर आए हैं जिसकी सहिता से आप अपने गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड को आसानी से मना सकते हैं और इस Narazgi Shayari in Hindi for Love की पोस्ट में आपको हम ऐसी शायरी देंगे जो सबसे अलग होंगी। तो चलिए शुरू करते हैं आज की Narazgi Shayari in Hindi की इस पोस्ट को और अपने दोस्तों या फिर गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड को मनाने की कोशिश करते हैं।

Narazgi Shayari in Hindi

Narazgi Shayari in Hindi

बस एक यही बात उसकी मुझे अच्छी लगती है,
उदास कर के भी कहती है तुम नाराज तो नहीं हो ना !

Bas ek yahi baat uski mujhe achhi lagti hai,
Udaas karke bhi kehti hai tum naaraz toh nahi ho na!

मुझको छोडने की वजह तो बता देते,
मुझसे नाराज थे या मुझ जैसे हजारों थे !

Mujhko chhodne ki wajah toh bata dete,
Mujhse naaraz the ya mujh jaise hazaron the!

तुझसे नहीं तेरे वक्त से नाराज हूँ
जो तुझे कभी मेरे लिए मिला ही नहीं !

Tujhse nahi tere waqt se naaraz hoon,
Jo tujhe kabhi mere liye mila hi nahi!

Narazgi Shayari in Hindi for Love

Narazgi Shayari in Hindi

बात बात पे नाराज होने की ये तेरी आदत,
जाना एक दिन मेरी जान ले जाएगी !

Baat baat pe naaraz hone ki ye teri aadat,
Jaana ek din meri jaan le jayegi!

उसकी हर गलती भूल जाता हूँ
जब वो मासूमियत से पूछती है,
नाराज है क्या !

Uski har galati bhool jaata hoon
Jab vo maasoomiyat se poochti hai,
Naaraz hai kya!

कुछ रिश्ते खामोशी और नाराजगी के
चलते बच जाते है इस दुनिया में !

Kuch rishte khamoshi aur naarazgi ke
Chalte bach jaate hain is duniya mein!

Love Narazgi Shayari in Hindi

Narazgi Shayari in Hindi

तुम भी चली आया करो कभी मनाने मुझको,
यूँ बेफजूल की नाराजगी तुमसे मेरी भी जान लेती है !

Tum bhi chali aaya karo kabhi manaane mujhko,
Yun bekaar ki naarazgi tumse meri bhi jaan leti hai!

खामोशियां ही बेहतर हैं,
शब्दों से लोग नाराज बहुत हुआ करते हैं।

Khamoshiyan hi behtar hain,
Shabdon se log naaraz bahut hua karte hain.

हम तो नाराज होने का नाटक कर रहे थे,
उन्होंने सही समझ लिया !

Hum toh naaraz hone ka natak kar rahe the,
Unhone sahi samajh liya!

Narazgi Shayari in Hindi for Girlfriend

Narazgi Shayari in Hindi

नाराज हमसे खुशियाँ ही होती है,
गमों के तो इतने नखरे नही होते !

Naaraz humse khushiyan hi hoti hain,
Gamon ke toh itne nakhray nahi hote!

नाराजगी वहाँ मत रखिएगा मेरे दोस्त,
जहाँ आपको ही बताना पड़े आप नाराज है !

Naarazgi wahan mat rakhiyega mere dost,
Jahan aapko hi batana pade aap naaraz hain!

यूँ तो हम रोज तुम्हे याद करते है,
दौर नाराजगी का खत्म हो फिर बात करते है !

Yun toh hum roz tumhe yaad karte hain,
Daur naarazgi ka khatam ho phir baat karte hain!

Narazgi Shayari in Hindi Font

Narazgi Shayari in Hindi

नाराज हो कर भी नाराज नहीं होते,
ऐसी मोहब्बत है तुमसे !

Naaraz ho kar bhi naaraz nahi hote,
Aisi mohabbat hai tumse!

मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिना,
कभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना !

Mat pucho kaise guzarta hai har pal tumhare bina,
Kabhi baat karne ki hasrat kabhi dekhne ki tamanna!

मेरी फितरत में नहीं हैं किसी से नाराज होना,
नाराज वो होते हैं जिन्हें अपने आप पर गुरूर होता है !

Meri fitrat mein nahi hai kisi se naaraz hona,
Naaraz vo hote hain jinhe apne aap par gurur hota hai!

New Narazgi Shayari

New Narazgi Shayari

इश्क में नाराजगी नहीं हुई,
तो फिर आपको इश्क भी नहीं हुआ !

Ishq mein naarazgi nahi hui,
Toh phir aapko ishq bhi nahi hua!

कुछ नाराजगी सिर्फ गले लगने से ही दूर होती हैं,
समझने समझाने से नहीं !

Kuch naarazgi sirf gale lagne se hi door hoti hain,
Samajhne samjhane se nahi!

मुझे अपने किरदार पे इतना तो यकीन है की,
कोई मुझे छोड़ सकता है लेकिन भूल नही सकता !

Mujhe apne kirdar pe itna toh yakeen hai ki,
Koi mujhe chhod sakta hai lekin bhool nahi sakta!

Naraz Shayari

Narazgi Shayari in Hindi

सूख जाते हैं मेरी आँखों के आंसू भी,
तुम्हारी नाराजगी मेरी जान लेकर रहेगी किसी दिन !

Sookh jaate hain meri aankhon ke aansu bhi,
Tumhari naarazgi meri jaan lekar rahegi kisi din!

जैसे मैं तुम्हारी हर नाराजगी समझता हूँ
काश वैसे ही तुम मेरी सिर्फ एक मजबूरी समझते !

Jaise main tumhari har naarazgi samajhta hoon
Kash waise hi tum meri sirf ek majboori samajhte!

सुनो तुम बादाम खाया करो,
नरागजी में तुम मेरा प्यार भूल जाते हो !

Suno tum badam khaya karo,
Narazgi mein tum mera pyaar bhool jaate ho!

नाराजगी शायरी

Narazgi Shayari in Hindi

नाराज ना होना हमारी,
बेमतलब की शायरियों से क्योंकि,
इन्ही हरकतों से,
हम हमेशा आपको याद आयेंगे !

Naaraz na hona humari,
Bematlab ki shayariyon se kyonki,
Inhi harkaton se,
Hum hamesha aapko yaad aayenge!

तुम से नाराज होने के बाद,
मैं अपने आप के साथ कैसे बात कर सकता हूँ !

Tumse naaraz hone ke baad,
Main apne aap ke saath kaise baat kar sakta hoon!

झगड़ा तब होता है जब शिकायत होती है,
और शिकायतें उनसे होती है जिनसे प्यार होता है !

Jhagda tab hota hai jab shikayat hoti hai,
Aur shikayatein unse hoti hai jinse pyaar hota hai!

Also Read👇

तो दोस्तों, कैसी लगी Narazgi Shayari in Hindi की यह पोस्ट? अगर पसंद आई हो तो इसे अपने फ्रेंड्स के साथ जरूर शेयर करें ताकि वो भी अपने करीब के लोगों को मना सकें। हम आपसे मिलेंगे फिर किसी और पोस्ट में किसी नए टॉपिक के साथ। धन्यवाद!

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *